20% Off All Print Formats
CODE: NEWYEAR20
*Offer valid through January 21, 2022
*Offer valid through January 21, 2022 (11:59 p.m. local time). Valid for all full-priced publications uploaded to and purchased through your own account. A 20% discount is applied toward your product total, excluding any author mark-up, with no minimum or maximum order amount. This offer is good for five uses, and cannot be used for digital purchases, combined with volume discounts, custom orders, other promotional codes, or gift cards, or used for adjustments on previous orders.

Save 20% through January 21, 2022. CODE: NEWYEAR20 Click for details.

Books:

Sahajta (In Hindi)

Read Sample
  • Details
  • Description
Published by:
Dada Bhagwan Foundation
Published:
1/12/2019
Specs:
Standard / 8.25" x 10.75"
206 pages Perfect-bound
Category:
Religion
Tags:
innate, innateness, sahaj, sahajta, towards innateness

मोक्ष किसे कहते हैं? खुद के शुद्धात्मा पद को प्राप्त करना | जो कुदरती रूप से स्वाभाविक हैं, जो सहज हैं7 क्योंकि कि कर्मबंधन और अज्ञानता के कारण हमें अपने शुद्ध स्वरुप का ज्ञान नहीं हैं जो स्वाभाव से ही सहज हैं, शुद्धात्मा हैं | तो सहजता किस प्रकार प्राप्त करनी चाहिए ? ज्ञानीपुरुष के पास उसका उपाय हैं और ऐसे महान ज्ञानीपुरुष, दादाश्री ने हमें सहजता प्राप्त करने की चाबियाँ दी हैं | उन्होंने हमें अपने शुद्ध स्वरुप का परिचय कराया(आत्मज्ञान दिया) | मूल आत्मा तो सहज ही हैं, शुद्ध ही हैं | लोग इमोशनल (असहज) हो जाते हैं, क्योंकि उनके विचार, वाणी और वर्तन (मन-वचन-काया) के साथ तन्मयाकार हो जाते हैं | उसे अलग रखने से और उसका ज्ञाता-द्रष्टा रहने से आप सहजता प्राप्त कर सकेंगे | एक बार ज्ञान प्राप्त करने (ज्ञानविधि द्वारा) के बाद खुद का शुद्धात्मा (जो सहज हैं और रहेंगा) जागृत हो जाता हैं फिर, मन-बुद्धि-अहंकार शरीर की सहज स्थिती प्राप्त करने के लिए दादाश्री ने पाँच आज्ञाएँ दी हैं |

Also in Books

1 - 3 of 382 other publications

Books: Sahajta (In Hindi)


This site uses cookies. Continuing to use this site without changing your cookie settings means that you consent to those cookies.

Learn more How to turn off cookies
OKAY, GOT IT