Books:

Aptavani -14 Part-1 (In Hindi) Part 1

Read Now
Digital Includes: PDF WebViewer
  • Details
  • Description
Published by:
Dada Bhagwan Foundation
Published:
1/22/2019
Specs:
Standard / 8.25" x 10.75"
226 pages Perfect-bound
Category:
Religion
Tags:
egoism, right belief, scientific circumstantial evidences, self ignorance, who am i, who is the doer, wrong belief

प्रस्तुत पुस्तक में आत्मा के गुणधर्मो का स्पष्टिकरण (खुला) किया गया हैं, और उन कारणों की भी पहचान कराई गई हैं, की जिनके कारण हम आत्मा का अनुभव प्राप्त करने में असमर्थ रहें हैं | पुस्तक को दो भागों में विभाजित किया गया हैं | पहले भाग में ब्रह्मांड के छ: अविनाशी तत्वों का वर्णन, विशेषभाव (मैं), और अहंकार की उत्त्पति के कारणों का विश्लेषण किया हैं | आत्मा अपने मूल स्वाभाव में रहकर, संयोगो के दबाव और अज्ञानता के कारण एक अलग ही अस्तित्व(मैं) खड़ा हो गया हैं |"मैं यह फर्स्ट लेवल का और "अहम्" यह सेकंड लेवल का अलग अस्तित्व हैं | राँग बिलीफ जैसे कि "मैं चंदुलाल हूँ"," मैं कर्ता हूँ" उत्पन्न (खड़ी) होती हैं और परिणाम स्वरुप क्रोध-मान-माया और लोभ ऐसी राँग बिलीफ़ो में से उत्पन्न हुए हैं | "मैं चंदुलाल हूँ" यह बिलीफ सभी दुखों का मूल हैं | एक बार यह बिलीफ चलीजाए ,तो फिर कोई भी दुःख नहीं रहता हैं |

Also in Books

1 - 3 of 321 other publications

Books: Aptavani -14 Part-1 (In Hindi) Part 1


This site uses cookies. Continuing to use this site without changing your cookie settings means that you consent to those cookies.

Learn more How to turn off cookies
OKAY, GOT IT