Books:

Simple & Effective Science For Self Realization (In Hindi)

Read Now
Digital Includes: PDF WebViewer
  • Details
  • Description

जिस सुख के बाद दुःख आए, उसे सुख कैसे कहेंगे? यह तो टेम्परेरी सुख हैं और कल्पित हैं, माना हुआ है| सुख तो परमानेन्ट होता है|सुख खुद के अंदर है, आत्मा में है| अत: जब आत्मा प्राप्त करता है, तब सनातन (सुख) प्राप्त होगा| अधिक जाने प्रस्तुत पुस्तक द्वारा|

Also in Books

1 - 3 of 321 other publications

Books: Simple & Effective Science For Self Realization (In Hindi)


This site uses cookies. Continuing to use this site without changing your cookie settings means that you consent to those cookies.

Learn more How to turn off cookies
OKAY, GOT IT